उपापचय (Metabolism) क्या है और कैसे काम करता है?

उपापचय (Metabolism) क्या है और कैसे काम करता है?

Metabolism क्या है? 

हमे हमारे शरीर और दिमाग से किसी भी तरह का काम करवाने जैसे चलना, सोचना या कुछ भी कार्य करने के लिए ऊर्जा की ज़रूरत पड़ती है।

हमारे शरीर की कोशिकाओं में होने वाली रसायनिक प्रतिक्रियाएं जो हमारे शरीर में ऊर्जा बनाती है इसे ही मेटाबोलिज़्म (metabolism) कहा जाता।

हमारे शरीर में कुछ ऐसे प्रोटीन्स होते है जो इन रसायनिक प्रतिक्रियाओं को काबू करते है। हमारे शरीर में एक वक़्त पर ही हज़ारों प्रतिक्रियाएं होती है, जो हमारे शरीर की कोशिकाओं को शक्ति प्रदान करती है और उन्हें स्वस्थ बनाये रखती है।

Metabolism कैसे काम करता है?

जब हम कुछ खाते है तो हमारे शरीर का पाचन तंत्र एन्ज़इम्स (enzymes) का इस्तेमाल करता है ताकि:

  • प्रोटीन को तोड़कर एमिनो एसिड्स (amino acids) बना सके
  • फैट्स (fats) को फैटी एसिड्स (fatty acids) में बदल सके 
  • कार्बोहाइड्रेट्स (carbohydrates) को शुगर (sugar) में बदल सके

शक्कर  (sugar), एमिनो एसिड्स (amino acids), फैटी एसिड्स (fatty acids) शरीर को ज़रूरत पड़ने पर शक्ति के रूप में इस्तेमाल कर सकता है।

ये सभी ऊर्जा के स्रोत खून के ज़रिये हमारी कोशिकाओं तक पहुँचते है।

इसके बाद एन्ज़इम्स (enzymes) तेज़ी से प्रतिकिर्या करते है और इनसे ऊर्जा निकाल कर शरीर के लिए इस्तेमाल करते है या फिर लिवर (liver), मांसपेशियों वगैरह आदि के लिए शरीर में सयोजन कर लेते है।

मेटाबोलिज्म एक ही समय पर होने वाली 2 गतिविधियों का मेल है।

पहली गतिविधि एनाबोलिज़्म (anabolism) है जिसमे शरीर शक्ति को इकठ्ठा भी करता है और शरीर में  ऊतक भी (body tissue) बनाता है।

दूसरी गतिविधि है अपचय (catabolism) जिसमे हमारे शरीर में भोजन को तोड़ कर ऊर्जा देने का काम करता है यह कार्बोहाड्रेट को ग्लाइकोज में  बदलता है जिसे हम ऊर्जा के रूप मई इस्तेमाल करते है |

एनाबोलिज़्म (Anabolism) क्या होता है?

एनाबोलिज़्म हमारे शरीर में ऊर्जा के बनने और ऊर्जा के संग्रह के करने के बारे में है। एनाबोलिज़्म के समय हमारे शरीर में नई कोशिकाओं का विकास होता है, शरीर में ऊतकों की बेहतरी होती है और भविष्य के लिए शरीर में ऊर्जा संग्रहित होती है।

अपचय  (Catabolism) क्या होता है? 

काटाबोलिस्म में हमारा शरीर ईंधन की तलाश करता है और ऐसे में शक्ति के बड़े अणुओं को तोड़कर शक्ति प्राप्त करता है जैसे प्रोटीन और फैट्स (protien and fats) के अणुओं को।

ये हमारे शरीर में ज़रूरी गर्मी, एनाबोलिज़्म के लिए चाहिए शक्ति, और मांसपेशियों के लिए चाहिए ज़रूरी ईंधन बनाने में मदद करता है।

Metabolism को कौन काबू करता है? 

हमारे शरीर में कई तरह के हॉर्मोन होते है जो हमारे शरीर में मेटाबोलिज्म को काबू करते है और इनमे से एक है थायरोक्सिन (thyroxine) जो हमारे थाइरोइड ग्लैंड (thyroid gland) से निकलता है।

ये हॉर्मोन हमारे शरीर में इस चीज़ पर बहुत प्रभाव डालता है कि आखिर हमारे शरीर में रासायनिक गतिविधियां कितनी तेज़ या धीमी चलेंगी।

दूसरा हॉर्मोन हमारे अग्न्याशय द्वारा छोड़ा जाता है जो हमारे शरीर में ये निर्धारित करता है कि हमारे शरीर में मेटाबोलिक गतिविधि एनाबोलिक होगी या फिर काटाबोलिक होगी।

ज़्यादातर एनाबोलिक गतिविधि तभी होती है जब हम खाना खाते है जिससे हमारे खून में ग्लूकोस (glucose) का स्तर बढ़ जाता है।

खून में शुगर बढ़ने के बाद अग्न्याशय इसे पहचानता है और शरीर में इन्सुलिन (insulin) छोड़ता है जो कोशिकाओं को ये एनाबोलिक गतिविधियां बढ़ाने का संकेत देता है।